केन्द्रीय विपणन संगठन - नियमावली

Page Type

धारा 4 की उपधारा 1 के खण्ड (ख) में उल्लिखित 17 मदें (मेनुअल), जो अधिनियम के कानून बनने के 120 दिन के भीतर प्रत्येक सार्वजनिक संस्था को प्रकाशित करना जरूरी है।

  1. इसके संगठन, कार्य और कर्तव्यों का विवरण।
  2. अधिकारियों व कर्मचारियों के अधिकार एवं कर्तव्य। 
  3. सुपरविजन व उत्तरदायित्व सहित निर्णय की प्रक्रिया के लिए कार्रवाई।
  4. सेल द्वारा कार्यों के लिए कारखाने द्वारा नियत मानक।
  5. सेल द्वारा अपने नियंत्रण में तथा उसके पास रखे गए नियम, विनियम, निर्देश, मेनुअल और रिकार्ड जो कर्मचारी अपने कर्तव्य निर्वाहन में प्रयोग करते हैं।
  6. सेल के नियंत्रण मे दस्तावेजों की श्रेणी संबंधी वक्तव्य।
  7. जनता से विचार-विमर्श से नीति निर्धारण व उनके कार्यान्वयन के संबंध में व्यवस्था का विवरण।
  8. दो अथवा दो से अधिक व्यक्तियों की ऐसी संस्थाएं, मण्डल, परिषदें, समितियां जो इसे परामर्श देने के लिए गठित की गई हों और क्या इन मण्डलों, परिषदों, समितियों तथा अन्य संस्थाओं में जनता भाग ले सकती है या इनकी बैठकों के संक्षिप्त कार्रवाई विवरण जनता को उपलब्ध हैं।
  9. सेल के अधिकारियों तथा कर्मचारियों की डायरेक्टरी।
  10. प्रत्येक अधिकारी तथा कर्मचारी द्वारा प्राप्त मासिक पारिश्रमिक, कम्पनी के नियमों के अन्तर्गत मुआवजे की प्रणाली।
  11. प्रत्येक एजेन्सी को आबंटित बजट, जिसमें सभी योजनाओं का विवरण, प्रस्तावित व्यय तथा किए गए भुगतान का विवरण हो।
  12. सहायता कार्यक्रमों के कार्यान्वयन का तरीका, आबंटित राशि तथा ऐसे कार्यक्रमों से लाभान्वित व्यक्तियों का विवरण।.
  13. सेल द्वारा दिए गए/दी गई रियायतें, परमिट, अधिकार का विवरण।
  14. इलेक्ट्रोनिक स्वरूप में इसके पास उपलब्ध सूचना का विवरण।
    इलेक्ट्रोनिक स्वरूप में उपलब्ध सूचना के लिए कृपया वेबसाइट www.sail.co.inदेखें।
  15. सूचना प्राप्त करने हेतु जनता के लिए उपलब्ध सुविधाओं का विवरण जिसमें लाइब्रेरी या अध्ययन कक्ष के कार्य घण्टे बताए गए हों (यदि व्यवस्था है तो)।
    कम्पनी के निगमित कार्यालय में इस प्रकार की कोई सुविधा नहीं है। परन्तु, निगमित कार्य प्रमुख की पूर्व अनुमति से इस्पात भवन के निचले तल पर स्थित लाइब्रेरी के प्रयोग की इजाजत दी जा सकती है।
  16. जन सूचना अधिकारियों के नाम, पद व उनके बारे में अन्य विवरण।
  17. निर्धारित अन्य कोई सूचना तथा प्रति वर्ष इनका नवीनीकरण।

1.संगठन, कार्य तथा कर्तव्यों का विवरण

आईएसओ 9001:2000 प्रमाणित केन्द्रीय विपणन संगठन (सीएमओ) देश का सबसे बड़ा औद्योगिक विपणन संगठन है। यह सेल के 5 एकीकृत इस्पात कारखानों में तैयार कार्बन इस्पात की बिक्री करता है। इसका मुख्यालय कोलकाता में है और यह अपने 37 शाखा बिक्री कार्यालयों के विशाल तन्त्र से अपना कारोबार कर रहा है। इसके शाखा कार्यालय 4 क्षेत्रों में फैले हैं। इसके अलावा इसके 25 भण्डार हैं जिनमें से 6 में मशीनीकृत माल उठाने-रखने की सुविधा है। यही नहीं, इसके 25 उपभोक्ता सम्पर्क कार्यालयों और 39 कन्साइन्मेंट एजेंटों द्वारा भी बिक्री की जा रही है। देश में सीएमओ के बिक्री प्रयासों में इसके जिला स्तर के डीलर भी सहयोग दे रहे हैं। ये डीलर देश के सुदूर कोनों तक छोटे से छोटे उपभोक्ताओं की मांगें पूरी करते हैं। सीएमओ ने मैसर्स जंक्शन सर्विसेस लिमिटेड की भागीदारी से एक संयुक्त उद्यम शुरू किया है जिससे अब इस्पात की खरीदारी आॅनलाइन ‘ई-स्टोर’ से की जा सकती है और माल छोटे भवन निर्माताओं को अपने घर के पास मिल सकता है।

सीएमओ के पास उपलब्ध सूचना प्रौद्योगिकी प्रणाली होने के कारण पूरे संगठन को एक-दूसरे के साथ जोड़ा गया है। उपभोक्ताओं के साथ संपर्क उत्पाद तथा उत्पाद विशेष में विशेषज्ञता, बिक्री सेवा पर नियंत्रण से उपभोक्ताओं की राय पता करने में आसानी हो रही है तथा उपभोक्ता संतुष्टि सूचकांक स्थापित किए जा रहे हैं। सीएमओ उपभोक्ता-मित्र नीति पर चल रहा है और बिक्री के पश्चात् यह उत्तम सेवा उपलब्ध कराता है। प्रमुख उपभोक्ता प्रबन्धन द्वारा सीएमओ प्रमुख उपभोक्ताओं को देश भर में एक स्थान से माल उपलब्ध कराता है तथा पूरा कारोबार, आॅर्डर बुकिंग से लेकर माल की डिलीवरी और यहां तक कि परामर्शदात्री सेवाएं व बिक्री पश्चात सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं।

सीएमओ का अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार डिवीजन (आईटीडी) सेल के 5 इस्पात कारखानों से मृदुल इस्पात और कच्चे लोहे का निर्यात कर रहा है। यह अपने उपभोक्ताओं और उत्पादन यूनिटांे से निकट संपर्क में रहता है तथा गुणवत्ता और आकार की दृष्टि से उपभोक्ताओं की मांग पूरी करने के लिए सदैव तैयार रहता है।

सीएमओ का परिवहन तथा जहाजरानी (टी एंड एस) डिवीजन का मुख्यालय कोलकाता में तथा इसके शाखा कार्यालय हल्दिया, परादीप, वाइजैग और कोलकाता गोदियों में हैं। यह डिवीजन इस्पात निर्माण के लिए महत्वपूर्ण कच्चा माल अर्थात कोकिंग कोयले की सप्लाई तथा उससे सम्बद्ध सभी पक्षों का पूरा-पूरा ध्यान रखता है। यहां से दूसरे कारखानों का आयात भी किया जा रहा है और इस्पात निर्यात के लिए माल का प्रेषण किया जाता है।

अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार डिवीजन और परिवहन तथा जहाजरानी दोनों को आईएसओ 9001:2000 प्रमाणपत्र प्राप्त है।

सीएमओ संगठन के डिवीजन/विभाग (आईएसओ 9001:2000)

वाणिज्यिक निदेशालय:

मुख्यालय: नई दिल्ली

इस समूह का मुख्य कार्य संसद से सम्बद्ध कार्य जिसमें संसद में कोपू के बारे में पूछे गए प्रश्न, परामर्शदात्री समितियों, सभी मंत्रालयांे/संसद सदस्यों द्वारा मांगी गई जानकारी, गुणवत्ता कार्यनिष्पादन समीक्षा (क्यूपीआर) इस्पात मंत्रालय के साथ बैठक, मुख्य कार्यकारियों और निदेशक मण्डल को समीक्षा के लिए बिक्री तथा विपणन की मासिक रिपोर्ट प्रेषित करना तथा इस्पात उपभोक्ता परिषद् की बैठकों/सीओएसआईसीआई/एफईआईआई तथा अन्य संगठनों की बैठकों का विवरण तैयार करना है।

घरेलू बिक्री:

मुख्यालय: कोलकाता

मुख्यालय में तीन-स्तरीय व्यवस्था/क्षेत्रीय/शाखा तथा देश के विभिन्न भागों में अन्य बिक्री केन्द्र।

घरेलू बिक्री समूह सेल के एकीकृत इस्पात कारखानों द्वारा निर्मित लोहे तथा इस्पात के उत्पादों की देश में बिक्री करता है। देश में जिन सामान की बिक्री की जाती हैं वे हैं: लम्बे उत्पाद, सपाट उत्पाद और पीईटी उत्पाद समूह। 

भण्डारण समूह 

मुख्यालय: कोलकाता

संगठन: यह चार क्षेत्रों में है और देश के विभिन्न भागों में इसके भण्डार तथा बिक्री केन्द्र हैं। भण्डारण समूह सीएमओ में भण्डार तथा परिवहन आवश्यकताओं के लिए उत्तरदायी है। यह भण्डार सुरक्षित रखता है और सेल के एकीकृत इस्पात कारखानों द्वारा प्रेषित लोहे तथा इस्पात के सामान की डिलीवरी करता है। यह विभिन्न भण्डारों तथा अन्य बिक्री केन्द्रों से सड़क मार्ग द्वारा माल भेजने की व्यवस्था के साथ-साथ भण्डारों से गन्तव्य स्थानों तक माल प्रेषित करने के लिए भी उत्तरदायी है। यह समूह सेल के एकीकृत इस्पात कारखानों से लोहे तथा इस्पात के उत्पादों के प्रेषण के लिए रेलवे द्वारा किए गए दावों का भी निपटान करता है। 

अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार डिवीजन (आईटीडी)

इसका प्रमुख उत्तरदायित्व सेल के एकीकृत इस्पात कारखानों में तैयार लोहे तथा इस्पात के सामान की विदेशों मंे बिक्री करना है और निर्यात होने वाले माल के खरीदारों की संख्या तथा उत्पाद मिश्र का विस्तार करना है।

परिवहन तथा जहाजरानी (टी एंड एस)

मुख्यालय: कोलकाता

संगठन: कोलकाता और वाईजेग में दो क्षेत्र और हल्दिया, कोलकाता, परादीप तथा वाईजेग में शाखा परिवहन तथा जहाजरानी कार्यालय। यह विभाग सेल की ओर से निर्यात तथा आयात का माल उठाने-रखने के लिए उत्तरदायी है। यह सेल के एकीकृत कारखानों में तैयार इस्पात उत्पादों के लिए निर्यात वायदों की पूर्ति सुनिश्चित करता है। इसके साथ ही यह कारखानों के लिए बन्दरगाहों से कोयले, कलपुर्जे और मशीनरी जैसे कच्चे माल आदि का प्रेषण भी करता है। 

संचार तथा सूचना प्रौद्योगिकी

यह विपणन में लगे विभिन्न विभागों/मुख्यालय/क्षेत्रीय कार्यालयों को सूचना प्रौद्योगिकी उपलब्ध कराता है तथा इसका हैदराबाद में एक साॅफ्टवेयर विकास केन्द्र है। यह विभाग सीएमओ के विभिन्न कार्यों का कम्प्यूटरीकरण, आवश्यक साॅफ्टवेयर और हार्डवेयर सुविधाओं का विकास तथा रखरखाव, प्रबन्धन सूचना प्रणाली (एमआईएस) और सूचना प्रौद्योगिकी सम्बन्धित समस्याओं का समाधान भी करता है। 

कार्मिक एवं प्रशासन:

मुख्यालय कोलकाता

प्रतिष्ठान: मुख्यालय/क्षेत्रीय मुख्यालयों में कार्यपालक

इसकी प्राथमिक भूमिका मानव संसाधन प्रबन्धन है तथा प्रमुख कार्य मानव संसाधन आयोजन, मानव संसाधन विकास, संगठनात्मक विकास और कर्मचारी सेवाएं तथा कल्याण हैं। इसके अलावा यह शान्तिपूर्ण औद्योगिक सम्बन्ध को मधुर रखने का कार्य भी करता है। यह चिकित्सा, प्रशासन तथा संपर्क कार्य भी देखता है। 

वित्त एवं लेखा: 

मुख्यालय कोलकाता: 

प्रतिष्ठान: वित्तीय कार्यपालक देश भर में फैले हमारे शाखा और 4 क्षेत्रीय कार्यालयों में कार्यरत हैं। इनका प्राथमिक उत्तरदायित्व लेखे तैयार करना, वित्तीय प्रबन्धन और बजट नियंत्रण है। 

परिसम्पदा प्रबन्धन डिवीजन (ईएमडी): 

प्रतिष्ठान: मुख्यालय/क्षेत्र

यह मुख्य रूप से कार्यालय भवनों, भण्डारों, उपस्करों के निर्माण/रखरखाव के कार्यों में लगा हुआ है। यह परिसम्पदा/सम्पत्ति से सम्बन्धित रिकार्ड रखता है और व्यर्थ पड़ी सम्पत्ति के निपटान की देखरेख भी करता है। यह विभाग कम्पनी की परिसम्पदा/सम्पत्ति आदि से सम्बन्धित मामलों/झगड़ों का निपटान तथा उनका अनुसरण भी करता है। 

कानूनी कक्ष:

मुख्यालय: कोलकाता

संगठन: मुख्यालय तथा 4 क्षेत्र

यह सभी कानूनी मामलों पर कार्रवाई करने के अलावा सीएमओ के सभी कार्यालयों को कानूनी मामलों में परामर्श भी देता है तथा अदालतों और पंचनिर्णय के मामलों में प्रबन्ध की ओर से कार्य करता है। 

सतर्कता:

मुख्यालय: कोलकाता

संगठन: क्षेत्रों में सतर्कता कार्यपालक

यह सतर्कता मामलों, मामलांे की जांच करता है और सतर्कता सम्बन्धी रोकथाम के उपायों के बारे में सलाह भी देता है। 

जन संपर्क:

मुख्यालय: कोलकाता

यह संचार, प्रचार और जन संपर्क मामलों की देखभाल करता है, प्रदर्शनियों का आयोजन करता है तथा सीएमओ की गृह पत्रिका प्रकाशित करता है।

आन्तरिक लेखा परीक्षा: 

मुख्यालय: कोलकाता

संगठन: सभी कार्यालयों में आन्तरिक लेखा परीक्षा कार्यपालक

यह विभिन्न विभागों की गतिविधियों की लेखा परीक्षा करता है जिसका उद्देश्य नियमों और मानकों का अनुपालन सुनिश्चित करना है।

ग्रामीण विपणन तथा वितरण चैनल:

यह देश भर में डीलरों की नियुक्ति, डीलरों को बिक्री के लिए नीति विषयक हस्तक्षेप और ब्राण्डेड उत्पादों की बिक्री में वृद्धि करने के लिए डीलरशिप के विस्तार, बाजार शेयर में वृद्धि तथा सेल के उत्पादों का उपयोग बढ़ाने के लिए उत्तरदायी है। इसे क्षेत्रों में डीलर विकास प्रबन्धकों तथा शाखाओं में उपभोक्ता सम्पर्क कार्यालयों का समर्थन भी प्राप्त होता है।

Back to main links

अधिकारियों व कर्मचारियों के अधिकार एवं कर्तव्य:

कम्पनी के अधिकारियों और कर्मचारियों के अधिकार और कर्तव्य, मुख्य रूप से उनकी नियुक्ति की शर्तों और मेनुअलों तथा अधिकार प्रत्यायोजन से प्राप्त होते हैं। कम्पनी के अधिकारी और कर्मियों की नियुक्ति कम्पनी का कारोबार चलाने के लिए की जाती है। ये कार्य मेमोरेन्डम एण्ड एसोसिएशन आॅफ कम्पनी में बताए गए उद्देश्यों के अनुरूप हैं।

अपने कर्तव्य व उत्तरदायित्व निभाते हुए कम्पनी के अधिकारी तथा कर्मी कानूनों की व्यवस्थाओं के अन्तर्गत नियमों और विनियमों का अनुपालन करते हैं।

Back to main links

अपसुपरविजन व उत्तरदायित्व सहित निर्णय की प्रक्रिया के लिए कार्रवाई

निदेशक मण्डल

अध्यक्ष

कार्यकारी निदेशक

कार्यपालक

कम्पनी का समग्र प्रबन्धन कम्पनी के निदेशक मण्डल में निहित है। निदेशक मण्डल कम्पनी में निर्णय करने वाली सबसे बड़ी संस्था है। 

कम्पनी अधिनियम, 1956 की व्यवस्थाओं के अनुसार कुछ मामलों में कम्पनी के शेयरधारकों की आम सभा में स्वीकृति की आवश्यकता होती है। 

निदेशक मण्डल कम्पनी के शेयरधारकों, जो कम्पनी की सबसे उच्च अधिकार-प्राप्त संस्था है, के प्रति उत्तरदायी हैं। सेल, एक सार्वजनिक क्षेत्र का उद्यम होने के नाते इसका निदेशक मण्डल प्रमुख शेयरधारक अर्थात् भारत सरकार के प्रति भी उत्तरदायी है। 

कम्पनी का दिन-प्रतिदिन का प्रबन्धन कम्पनी के अध्यक्ष और कार्यकारी निदेशकों व कम्पनी के अन्य अधिकारियों को सौंपा गया है। निदेशक मण्डल ने अपने अधिकार अध्यक्ष, कार्यकारी निदेशकों को प्रत्यायोजित किए हैं जिन्होंने अपने कुछ अधिकार कार्यपालकों को सौंप दिए हैं।.. 

अध्यक्ष, कार्यकारी निदेशक तथा अन्य कार्यपालक अपने कार्यों और उत्तरदायित्वों के निर्वाहन के लिए निदेशक मण्डल के प्रति उत्तरदायी हैं। 

वे अधिकार जो प्रत्यायोजित नहीं किए गए हैं वे कम्पनी अधिनियम, 1956 के प्रावधानों के अनुरूप निदेशक मण्डल प्रयोग करता है।

Back to main links

सेल द्वारा कार्यों के लिए कारखाने द्वारा नियत मानक

कम्पनी में अधिकारों के प्रत्यायोजन के रूप में प्रक्रियाएं और मार्गदर्शी सिद्धान्त उपलब्ध हैं। इसके अतिरिक्त कम्पनी में नीतियां और मार्गदर्शी सिद्धान्त, मेनुअल, विभिन्न कानूनों की व्यवस्थाओं के अनुपालन की व्यवस्था, नियम तथा विनियम सार्वजनिक उद्यम विभाग द्वारा जारी मार्गदर्शी सिद्धान्त, मुख्य सतर्कता आयोग द्वारा जारी मार्गदर्शी सिद्धान्त, स्टाॅक एक्सचेंजों में नाम दर्ज कराने सम्बन्धी समझौता, सेबी द्वारा नियत नियम तथा विनियम कम्पनी के सहज परिचालन के लिए उपलब्ध हैं। 

Back to main links

सेल द्वारा अपने नियंत्रण में तथा उसके पास रखे गए नियम, विनियम, निर्देश, मेनुअल और रिकार्ड जो कर्मचारी अपने कर्तव्य निर्वाहन में प्रयोग करते हैं

कम्पनी के नियम और विनियमों के समग्र उद्देश्य तथा परिसीमाएं कम्पनी के मेमोरेन्डम तथा आर्टिकल्स आॅफ एसोसिएशन में निर्धारित हैं। कम्पनी का प्रत्येक विभाग अपने कार्य करते समय मेनुअलों, नीति और मार्गदर्शी सिद्धान्तों से मार्गदर्शन प्राप्त करता है। इनकी समय-समय पर समीक्षा की जाती है तथा इनका नवीकरण किया जाता है। इसके अतिरिक्त कम्पनी विभिन्न मामलों में भारत सरकार द्वारा जारी मार्गदर्शी सिद्धान्तों व निर्देशों का भी अनुपालन करती है। कम्पनी के कार्य भारत सरकार के साथ किए गए समझौते ज्ञापन के अनुसार भी किए जाते हैं। 

Back to main links

सेल के नियंत्रण मे दस्तावेजों की श्रेणी संबंधी वक्तव्य

कम्पनी विभिन्न कानूनी दस्तावेज, रजिस्टर, खाते, लाइसेंस, मेनुअल तथा समझौते आदि अपने पास रखती है। विभिन्न कानूनों, नियमों और विनियमों के अन्तर्गत आवश्यक कम्पनी के कारोबार तथा सहज कार्य के लिए ये आवश्यक हैं।

Back to main links

जनता से विचार-विमर्श से नीति निर्धारण व उनके कार्यान्वयन के संबंध में व्यवस्था का विवरण

सीएमओ एक वाणिज्यिक संगठन है तथा इसकी बनाई गई नीतियां कम्पनी के आन्तरिक प्रबन्धन के लिए हैं। अतः आन्तरिक नीतियां बनाते समय जनता से विचार-विमर्श की कोई आवश्यकता नहीं है। परन्तु, कम्पनी की आन्तरिक नीतियां विभिन्न कानूनों, नियमों और विनियमों आदि की व्यवस्थाओं के अनुरूप निर्धारित की जाती हैं।

Back to main links

दो अथवा दो से अधिक व्यक्तियों की ऐसी संस्थाएं, मण्डल, परिषदें, समितियां जो इसे परामर्श देने के लिए गठित की गई हों और क्या इन मण्डलों, परिषदों, समितियों तथा अन्य संस्थाओं में जनता भाग ले सकती है या इनकी बैठकों के संक्षिप्त कार्रवाई विवरण जनता को उपलब्ध हैं

The Management of the Company is vested with the Board of Directors. The Board has constituted various sub committees with specific powers and distinct roles and responsibilities. 

कम्पनी का प्रबन्धन निदेशक मण्डल के पास है। कम्पनी ने विशेष अधिकार प्रदान कर अलग-अलग भूमिका व उत्तरदायित्वों के लिए विभिन्न उप-समितियां गठित की हैं। निदेशक मण्डल तथा इसकी उप समितियों की बैठकें जनता के लिए खुली नहीं हैं।

Back to main links

सेल के अधिकारियों तथा कर्मचारियों की डायरेक्टरी

CENTRAL MARKETING ORGANISATION 

कार्यपालक निदेशक

क्र.सं. नाम, पदनाम
01 श्री आर. नाग, कार्यपालक निदेशक (परिवहन एवं जहाजरानी) (टेलीफोन: 033-22889814)
02 श्री डी. कोबी, कार्यपालक निदेशक (एम-सपाट उत्पाद) (टेलीफोन: 033-22881372)
03 वी.के. मेहता, कार्यपालक निदेशक (एम-लम्बे उत्पाद) (टेलीफोन: 033-22880020)
04 श्री सुशीम बैनर्जी, कार्यपालक निदेशक (वाणिज्यिक) (टेलीफोन: 011-23704582)
05 ए.के. घोष, कार्यपालक निदेशक (वित्त एवं लेखा) (टेलीफोन: 033-22882933)

महाप्रबन्धक

क्र.सं

नाम, पदनाम

01 श्री सी.के. धर, महाप्रबन्धक (एम-भण्डार) (टेलीफोन: 033-22882017)
02 श्री पी.सी. झा, महाप्रबन्धक (एम-एसएस एवं एई) (टेलीफोन: 033-22884138)
03 श्री अजीत सिन्हा, महाप्रबन्धक (का. एवं प्रशा.) (टेलीफोन: 033-22884002)
04 श्री वाई.के. रेड्डी, महाप्रबन्धक (एम-आरएम एवं डीसी) (टेलीफोन: 033-22880140)
05 श्री डी. रंजन, महाप्रबन्धक (एम-परिवहन एवं जहाजरानी) (टेलीफोन: 033-22880144)
06 श्री एस. बासु, महाप्रबन्धक (ईआरपी) (टेलीफोन: 033-22880150)
07 श्री वीरेन्द्र सिंह, महाप्रबन्धक (एम-परियोजनाएं) (टेलीफोन: 011- 23704699)
08 डाॅ. अनिल धवन, महाप्रबन्धक (एम-डब्ल्यूएच) (टेलीफोन: 033-22887684)
09 सुश्री आरती लूनिया, महाप्रबन्धक (एम-सीडी एवं एसपी) (टेलीफोन: 011-23721278)
10 श्री डी.के. खान, महाप्रबन्धक (एम-वाणिज्यिक) (टेलीफोन: 033-22883923)
11 श्री वी. दवे, महाप्रबन्धक (एम-क्वालिटी)

क्षेत्रीय प्रबन्धक

क्र.सं.

नाम, पदनाम

01 श्री पी. कुलश्रेष्ठ, महाप्रबन्धक (एम-लम्बे उत्पाद) एवं आरएम पूर्वी क्षेत्र (टेलीफोन: 033-22888556)
02 श्री जी.पी. श्रीवास्तव, महाप्रबन्धक (एम-सपाट उत्पाद) एवं आरएम दक्षिणी क्षेत्र (टेलीफोन: 044-28257164)
03 श्री एस. रामचन्द्रन, उप महाप्रबन्धक (एम-लम्बे उत्पाद) एवं आरएम पश्चिमी क्षेत्र (टेलीफोन: 022-26571836)
04 श्री वी.के. अमेता, महाप्रबन्धक (एम-सपाट उत्पाद) एवं आरएम पश्चिमी क्षेत्र (टेलीफोन: 022-26571827)
05 श्री पी.के. मिश्रा, उप महाप्रबन्धक (एम-सपाट उत्पाद) एवं आरएम पूर्वी क्षेत्र (टेलीफोन: 033-22880634)
06 श्री बिनोद कुमार, उप महाप्रबन्धक (एम-लम्बे उत्पाद) एवं आरएम दक्षिणी क्षेत्र (टेलीफोन: 044-28259660)
07 श्री डी.एन. गुप्ता, महाप्रबन्धक (एम-लम्बे उत्पाद) एवं आरएम उत्तरी क्षेत्र (टेलीफोन: 011-23316296)
08 श्री एस. मुखर्जी, महाप्रबन्धक (एम-सपाट उत्पाद) एवं आरएम उत्तरी क्षेत्र (टेलीफोन: 011-23315125)
09 श्री पी. राय चैधरी, उप महाप्रबन्धक (एम-परिवहन एवं जहाजरानी) एवं आरएम पूर्वी क्षेत्र (टेलीफोन: 033-22436970)
10 श्री टी.के. पटनायक, उप महाप्रबन्धक (एम-परिवहन एवं जहाजरानी) एवं आरएम दक्षिणी क्षेत्र (टेलीफोन: 0891-2563611)

Back to main links

प्रत्येक अधिकारी तथा कर्मचारी द्वारा प्राप्त मासिक पारिश्रमिक, कम्पनी के नियमों के अन्तर्गत मुआवजे की प्रणाली

गैर-कार्यपालकों और कार्यपालकों के वेतनमान:

गैर-कार्यपालक कार्यपालक
श्रेणी वेतनमान श्रेणी वेतनमान
एस-1 4000-3 प्रतिशत -5600 ई-0 8600-4 प्रतिशत -14600
एस-2 4080-3 प्रतिशत -5865 ई-1 10750-4 प्रतिशत -16750
एस-3 4170-3 प्रतिशत -6095 ई-2 13700-4 प्रतिशत -18250
एस-4 4300-3 प्रतिशत -6458 ई-3 16000-4 प्रतिशत -20800
एस-5 4500-3 प्रतिशत -6964 ई-4 17500-4 प्रतिशत -22300
एस-6 4800-3.5 प्रतिशत -7551 ई-5 18500-4 प्रतिशत -23900
एस-7 5100-3 प्रतिशत -8164 ई-6 19000-4 प्रतिशत -24400
एस-8 5400-3.5 प्रतिशत -8751 ई-7 19500-4 प्रतिशत -25350
एस-9 5800-3.5 प्रतिशत -9471 ई-8 20500-4 प्रतिशत -26500
एस-10 6400-3.5 प्रतिशत -11400 ई-9 23750-4 प्रतिशत-28550
एस-11 7500-3.5 प्रतिशत-13250    

Back to main links

. प्रत्येक एजेन्सी को आबंटित बजट, जिसमें सभी योजनाओं का विवरण, प्रस्तावित व्यय तथा किए गए भुगतान का विवरण हो

मार्च 2008 को समाप्त अवधि के लिए घाटा
  बजट वास्तविक अन्तर
विवरण 2007-08 2007-08  


आय


- अर्जित ब्याज
- अन्य राजस्व
- अनावश्यक प्रावधान

कुल आय

1.00
7.94
10.00

18.94

0.27
22.32
10.84

33.43

0.73
-14.38
-0.84

-14.49



व्यय


कर्मचारी पारिश्रमिक व अनुलाभ
भण्डार तथा कलपुर्जे
रखरखाव
उठाने-रखने पर व्यय
बीमा
वैधानिक प्रभार
डाक एवं तार संचार
प्रिंटिंग एवं स्टेशनरी
दर एवं कर
सुरक्षा व्यय
यातायात व्यय 
भाड़ा व्यय 
विविध एवं बट्टे खाते

147.63
1.85
7.62
15.00
63.57
0.22
0.69
6.18
1.90
1.95
13.00
4.81
15.86
2.44
25.74

219.41
1.33
6.71
12.74
64.13 
0.00 
1.02
6.29
1.99 
2.24 
12.77
5.00
15.36
1.17
36.44

-71.78
0.52
0.91
2.26
-0.56
0.22 
-0.33
-0.11
-0.09 
-0.29 
0.23
-0.19
0.50
1.27
-10.70

प्रावधान 5.00 0.64 4.36
कुल व्यय एवं प्रावधान 313.46 387.24 -73.78
कुल कमी = (ख-क) 294.52 353.81 -59.29
ब्याज 1.48 1.48 0.00
मूल्यहा्रस 14.00 12.25 1.75
शुद्ध कमी = (ग + घ + ङ) 310.00 367.54 -57.54

Back to main links

सहायता कार्यक्रमों के कार्यान्वयन का तरीका, आबंटित राशि तथा ऐसे कार्यक्रमों से लाभान्वित व्यक्तियों का विवरण

जनता के लिए सेल की कोई सहायता योजनाएं/कार्यक्रम नहीं हैं। परन्तु, सेल सामुदायिक विकास गतिविधियों के लिए निगमित सामाजिक दायित्व मद में काफी निधि सुरक्षित रखता है। इसके अलावा समय-समय पर अथवा आपात स्थिति में प्रधानमंत्री सहायता कोष में भी अंशदान किया जाता है। 

Back to main links

सेल द्वारा दिए गए/दी गई रियायतें, परमिट, अधिकार का विवरण.

सीएमओ पर लागू नहीं हैं।

Back to main links

.इलेक्ट्रोनिक स्वरूप में इसके पास उपलब्ध सूचना का विवरण

इलेक्ट्रोनिक स्वरूप में उपलब्ध सूचना के लिए कृपया वेबसाइटwww.sail.co.in देखें।

Back to main links

. सूचना प्राप्त करने हेतु जनता के लिए उपलब्ध सुविधाओं का विवरण जिसमें लाइब्रेरी या अध्ययन कक्ष के कार्य घण्टे बताए गए हों (यदि व्यवस्था है तो)

सीएमओ में जनता के लिए ऐसी कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है। 

Back to main links

जन सूचना अधिकारियों के नाम, पद व उनके बारे में अन्य विवरण

और अधिक जानकारी के लिए कृपया सम्पर्क करें: 

जन सूचना अधिकारी
1. 1- बी. भाकट
सहायक महाप्रबन्धक (संचार) एवं पीआईओ
सेन्ट्रल मार्केटिंग आरगनाइजेशन
40, जे एल नेहरू रोड, इस्पात भवन 
छठी मंजिल, कोलकाता-700 071
टेलीफोन: (033) 22889803
फैक्स: (033) 22886462
ई-मेल: bhakat@sail-steel.com
सहायक जन सूचना अधिकारी
2. कुमारी पुण्या मुखर्जी
प्रबन्धक (संचार) एवं एपीआईओ
सेन्ट्रल मार्केटिंग आरगनाइजेशन
40, जे एल नेहरू रोड, इस्पात भवन 
छठी मंजिल, कोलकाता-700 071
टेलीफोन: (033) 22889803
फैक्स: (033) 22886462 
ई-मेल: Punnya@sail-steel.com

Back to main links

निर्धारित अन्य कोई सूचना तथा प्रति वर्ष इनका नवीनीकरण

जल्दी ही प्रस्तुत की जाएगी। 

Back to main links

Set Order: 
11
Go to Top
Copyright © 2012 SAIL, all rights reserved
Designed & Developed by Cyfuture